Betul Samachar: सशक्त सुरक्षा बैंकों को मिल रही सराहना, जिला औषधी विक्रेता कल्याण संघ ने भेंट किए 414 पैकेट सैनेटरी पैड 

Betul Samachar: सशक्त सुरक्षा बैंकों को मिल रही सराहना, जिला औषधी विक्रेता कल्याण संघ ने भेंट किए 414 पैकेट सैनेटरी पैड 

Betul Samachar:(बैतूल)। जिले में 22 सितंबर 2019 को डाटर्स डे के अवसर पर प्रदेश का पहला सेनेटरी पैड बैंक बैतूल सांस्कृतिक सेवा समिति ने प्रारंभ किया। जिसके बाद स्कूल, गांव और शहर के वार्डों में सेनेटरी पैड बैंक खुलने का सिलसिला प्रारंभ हो गया। हाल ही में कोतवाली थाना भी प्रदेश का पहला ऐसा थाना बन गया जहां पैड बैंक संचालित होने लगा है। मासिक धर्म जैसे संवेदनशील विषय पर महिलाओं, किशोरियों को जागरुक करते हुए उन्हें पैड बैंक के माध्यम से सस्ती दरों पर अच्छी गुणवत्ता के सेनेटरी पैड उपलब्ध कराने के अभियान में जुटी बैतूल सांस्कृतिक सेवा समिति की मदद के लिए अब जिला औषधी विक्रेता संघ ने भी अपने कदम बढ़ाए।

जिला औषधी विक्रेता कल्याण संघ द्वारा समिति को 414 पैकेट भेंट किए है, ताकि ग्रामीण अंचलों में भी इस सुविधा को प्रारंभ किया जा सकें। जिला औषधी विक्रेता कल्याण संघ के अध्यक्ष मनजीत सिंह साहनी,सचिव रामप्रकाश गुगनानी, कोषाध्यक्ष सुनील सलूजा, वरिष्ठ सदस्य राजेश मेहता,जयदेव गायकी,पराग राठौर, राहुल गुगनानी सहित अन्य सदस्यों द्वारा सशक्त सुरक्षा बैंक की संस्थापक गौरी बालापुरे पदम, कोषाध्यक्ष जमुना पण्डाग्रे, सदस्य लीना देशकर को सैनेटरी पैड सौंपे और बालिकाओं के स्वास्थ्य, हाइजीन और जागरूकता के लिये किये जा रहे कार्यों की सराहना की।

औषधी संघ के माध्यम से खुलेंगे तीन पैड बैंक

औषधी संघ के अध्यक्ष मनजीत सिंह साहनी ने कहा कि ग्रामीण अंचलों में महिलाओं एवं किशोरियों को जागरूक करने के लिये सशक्त सुरक्षा पैड बैंक की पहल सराहनीय है। संस्था अध्यक्ष गौरी पदम ने बताया कि जिला औषधी विक्रेता कल्याण संघ द्वारा प्राप्त सेनेटरी पैड से संघ के माध्यम से ही ग्रामीण अंचलों की शालाओं या फिर ग्राम में सशक्त सुरक्षा पैड बैंक की शुरुआत की जाएगी। उन्होंने बताया कि मासिक धर्म को लेकर जिले के ग्रामीण अंचलों में ही नहीं अपितु शहरी क्षेत्र की महिलाओं में भी कई तरह की भ्रांतियां व्याप्त है।

कई ऐसे गांव है जहां आज भी परम्परागत साधनों का उपयोग मासिक धर्म के दिनों में किया जाता है। उन दिनों में बालिकाएं और महिलाएं असहनीय पीड़ा के दौर से गुजरती है, फिर भी भारी काम करती है और जमीन पर सोती है। जागरुकता अभियान में पैड का उपयोग करने के लिए प्रेरित करने के साथ-साथ महिलाओं को सेहत का ध्यान रखने के लिए भी जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि औषधी विक्रेता कल्याण संघ के माध्यम से 414 पैकेट पैड की मदद बड़ी मदद है। जल्द ही संस्था द्वारा तीन ग्रामों का चयन कर यहां औषधी संघ के नाम से ही तीन पैड बैंक खोले जाएंगे। समिति के पदाधिकारियों व सदस्यों ने औषधी विक्रेता कल्याण संघ के प्रति आभार व्यक्त किया है।

Join Telegram Channel

Join WhatsApp Channel

Join WhatsApp Group

Follow us on Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *