Ladli Behna Yojana: मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार हो, कोई भी पात्र हितग्राही लाभ से वंचित न रहे

Chief Minister Yojana: मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार हो, कोई भी पात्र हितग्राही लाभ से वंचित न रहेChief Minister Yojana: नर्मदापुरम संभागायुक्त श्री श्रीमन शुक्ल ने कहा कि मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार हो। कोई भी पात्र हितग्राही लाभ से वंचित न रहे। यदि योजना के क्रियान्वयन में लापरवाही पायी जाती है तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि नगरीय निकाय एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि ग्रीष्मकाल के दौरान पेयजल की सुचारू उपलब्धता रहे। किसी भी स्थान पर पेयजल संकट की स्थिति निर्मित न हो। संभागायुक्त श्री शुक्ल शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना एवं जल जीवन मिशन की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस, सीईओ जिला पंचायत श्री अभिलाष मिश्रा सहित महिला बाल विकास, पीएचई, जल निगम के अधिकारी, जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी मौजूद थे।

बैठक में मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना के संबंध में संभागायुक्त श्री शुक्ल ने निर्देश दिए कि योजना का फार्म भरने वाले कैम्पों में साथ में ई-केवायसी का कार्य भी अनिवार्य रूप से करवाया जाए। योजना के प्रचार-प्रसार के दृष्टिगत ग्रामीण क्षेत्रों में दीवार लेखन कराया जाए। नगरीय क्षेत्रों में चलने वाले कचरा संग्रहण वाहनों के माध्यम से भी योजना का प्रचार-प्रसार करवाया जाए। उन्होंने कहा कि पंजीयन शिविर के लिए नियत दिनांक को महिलाओं को पूर्व से टोकन वितरित कराए जाएं, ताकि उन्हें पता रहे कि शिविर में कब आना है। जिन महिलाओं के ई-केवायसी हो गए हैं, उन्हें पहले टोकन वितरित किए जाएं। उन्होंने कहा कि योजना के संबंध में भ्रांतियों को दूर करें कि केवल ई-केवायसी करने से फार्म नहीं भरेगा।

हितग्राही को शिविर स्थल पर जाकर पोर्टल में फार्म भरवाना होगा। नेटवर्क विहीन क्षेत्र वाले क्षेत्र के हितग्राहियों को नेटवर्क वाले क्षेत्र में लाकर फार्म भरवाया जाए। उन्होंने कहा कि योजना के संबंध में शासन स्तर से प्राप्त लक्ष्य को जिले की जनसंख्या के आधार पर जनपद पंचायत एवं नगरीय निकायवार आनुपातिक रूप से निर्धारित कर कार्य करें एवं लक्ष्य पूर्ति की प्रतिदिन समीक्षा करें। संबंधित अनुविभागीय अधिकारी सघनता से योजना में पंजीयन कार्य की समीक्षा करें। हितग्राही का बैंक खाता आधार से लिंक कराने एवं डीबीटी सक्रिय करने का कार्य समानांतर कराते रहें। योजना के तहत हितग्राहियों के पंजीयन कार्य में मुख्यमंत्री जनसेवा मित्र, जन अभियान परिषद, महिला स्व सहायता समूहों, दीनदयाल अंत्योदय समिति सदस्य, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप सहित अन्य स्वयंसेवियों का सहयोग लिया जाए।

संभागायुक्त श्री शुक्ल ने ग्रीष्मकाल के दौरान नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की सुचारू उपलब्धता  पर विशेष ध्यान देने के निर्देश देते हुए समस्त मुख्य नगरपालिका अधिकारियों एवं जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे अपने क्षेत्र में जल संकट की स्थिति का ठोस आकलन करें। जल संकट वाले स्थानों पर वैकल्पिक व्यवस्था का पुख्ता प्रबंध करें ताकि गर्मी के मौसम में किसी भी स्थान पर पानी की किल्लत न हो।

उन्होंने जल जीवन मिशन अंतर्गत निर्मित एवं निर्माणाधीन नल-जल योजनाओं की स्थिति की भी समीक्षा की। स्वीकृति हेतु शेष नल-जल योजनाओं की स्थिति की जानकारी ली। इसके साथ ही नल-जल योजनाओं के प्रमाणीकरण एवं ग्राम पंचायतों को योजनाओं के हस्तांतरण के संबंध में भी अधिकारियों से जानकारी ली। पीएचई के अधिकारियों ने बताया कि ग्रीष्मकाल के दौरान जल संकट से निपटने के लिए मोटर, राइजर पाइप एवं हैंडपंप की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। बैठक में जल निगम के अधिकारियों से भी जल निगम अंतर्गत पेयजल कार्यों की संभागायुक्त ने जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने जिले में पेसा एक्ट के क्रियान्वयन की स्थिति पर भी अधिकारियों से चर्चा की। जिले में प्रस्तावित मुख्यमंत्री के भ्रमण के संबंध में भी संभागायुक्त एवं कलेक्टर ने आवश्यक दिशा-निर्देश अधिकारियों को दिए।

Join Telegram Channel

Join WhatsApp Channel

Join WhatsApp Group

Follow us on Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *